श्री लंका: पूर्व मंत्री के सिक्यॉरिटी गार्ड ने की गोलीबारी, एक की मौत, 2 घायल

कोलंबो, एजेन्सी। श्री लंका में जहां इस वक्त राजनीतिक संकट गहराया हुआ है, वहीं रविवार को एक हाई-प्रोफाइल हिंसक घटना भी सामने आई है। प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को बर्खास्त करने के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के फैसले के बाद पहली बार कोई बड़ी हिंसक हुई है। रविवार को पूर्व पेट्रोलियम मंत्री अर्जुन रणतुंगा के एक सुरक्षा गार्ड ने भीड़ पर फायरिंग कर दी, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि 2 अन्य घायल हो गए। जिस समय गार्ड ने गोलियां चलाईं, उस वक्त रणतुंगा अपने ऑफिस में घुस रहे थे। हालांकि, वह पूरी तरह से सुरक्षित हैं। घटना के बाद गार्ड को अरेस्ट कर लिया गया। अब तक यह पता नहीं चल पाया है कि उसने किस मंशा से गोलीबारी की थी।
उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को सिरीसेना की पार्टी ने विक्रमसिंघे के नेतृत्व वाले सत्तारूढ़ गठबंधन से हटते हुए पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे को पीएम पद की शपथ दिला दी। हालांकि, संसद के स्पीकर ने विक्रमसिंघे को फिर से पीएम के रूप में मान्यता दे दी है। विक्रमसिंघे ने पीएम का आधिकारिक आवास छोड़ने से इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि उन्हें गैर-कानूनी तरीके से हटाया गया हैै।
उधर, बौद्ध भिक्षुओं सहित विक्रमसिंघे के 1000 समर्थक कोलंबो में पीएम आवास के बाहर जमा हो चुके हैं, जहां पीएम अपने गठबंधन सहयोगियों के साथ बैठक कर रहे हैं। प्रधानमंत्री आवास के नजदीक जवानों को तैनात किया गया है। हालांकि, उनकी सुरक्षा और आधिकारिक वाहन वापस ले लिए गए हैं, लेकिन पेट्रोलियम मंत्रालय में गोलीबारी हिंसा की पहली घटना है। वहीं, राजपक्षे ने अपनी नई कैबिनेट के गठन से पहले मंदिर में मत्था टेका। राजपक्षे के वफादारों ने बताया कि पुलिस अब विक्रमसिंघे को आधिकारिक आवास से हटाने के लिए कोर्ट जाएगी, जिससे गतिरोध और बढ़ने के आसार हैं।
महिंदा राजपक्षे का ताजा बयान
इस बीच राष्ट्रपति सिसीसेना द्वारा नए पीएम के तौर पर शपथ ले चुके महिंदा राजपक्षे ने रविवार को पूरे घटनाक्रम पर बयान जारी कर अपना पक्ष रखा। राजपक्षे ने कहा, ‘यूएनपी-यूपीएफए सरकार इसलिए सत्ता से बाहर हुई क्योंकि वढाअ ने गठबंधन छोड़ दिया। इसके बाद मुझे नई सरकार के गठन के लिए पीएम पद को स्वीकार करने का न्योता मिला।’ बता दें कि वढाअ (यूनाइटेड पीपल्स फ्रीडम अलायंस पार्टी) राष्ट्रपति सिरिसेना की पार्टी है, जबकि यूनाइटेड नैशनल पार्टी रानिल विक्रमसिंघे की पार्टी है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.